*हमारी जमीन लूटने के लिए अधिग्रहण को जरिया बनाया गया है-रामराज कुशवाहा।* *अपनी जमीन बचाने सातवें दिन भी भूख हडताल पर बैठे है किसान।* 

Spread the love

18 सितम्बर 2023 से सीधी जिले के मझौली उपखंड के ग्राम मूसामूड़ी में टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा की अगुआई में अपनी जमीन और जिंदगी बचाने की जंग में आदिवासी किसानों द्वारा क्रमिक भूख हड़ताल की जा रही है। आज 24 सितम्बर 2023 को भूख हड़ताल सातवें दिन भी जारी रही। आज भूख हड़ताल में हरिकेश्वर सिंह गोड़, और राजधानी सिंह गोड़ को अधिग्रहण प्रभावित किसान रामराज कुशवाहा ने अधिग्रहित भूमि की मिट्टी का तिलक लगाकर अनशन पर बैठाया गया। अनशन स्थल पर मौजूद किसानों के समक्ष अपनी बात रखते हुए रामराज कुशवाहा ने कहा कि हम किसानों की भूमियों को लूटने के लिए फर्जी तरीका अपनाया गया है जिसके चलते आर्यन पॉवर कंपनी हेतु भुमका एवं मुसामुड़ी के किसानों की भूमियों के भू-अर्जन हेतु किसानों की सहमति जानने हेतु दिनांक 29/10/2009 एवं 06/11/2009 को ग्राम सभा आयोजित की गयी चूंकि किसान अपनी जमीन देना नहीं चाहते थे इस कारण आयोजित ग्राम सभा में उपस्थित नहीं हुए अतः दोनों ग्राम सभाएं कोरम के अभाव में स्थगित कर दी गयी। भूमि लूट का षड़यंत्र सफल ना होता देख कर तत्कालीन एस.डी.एम./भू-अर्जन अधिकारी मझौली नें अपने उपखंड कार्यालय मझौली में ग्राम पंचायत के सचिव को बुलाकर दिनांक 18/12/2009 को फर्जी तरीके से 169 व्यक्तियों के नाम कार्यवाही पंजी में लिखकर मेसर्स आर्यन कंपनी के पक्ष में ग्राम सभा की सहमति का प्रस्ताव पारित कर लिया, जिन 169 व्यक्तियों को ग्राम सभा में उपस्थित बताया गया उनमे से 159 व्यक्ति ग्राम पंचायत भुमका (ग्राम मूसामूड़ी एवं ग्राम भुमका) के निवासी ही नहीं हैं तथा ग्राम पंचायत भुमका के जिन 10 व्यक्तियों के नाम कार्यवाही पंजी में लेख हैं उनका कहना है की उनकी जानकारी में भूमि अधिग्रहण सम्बन्धी कोई ग्राम सभा आयोजित नहीं की गयी है कार्यवाही पंजी में बने मेरे हस्ताक्षर फर्जी बनाये गए हैं तब के ग्राम पंचायत भुमका के सरपंच का भी कहना है की भूमि अधिग्रहण हेतु जो ग्राम सभा बताई जा रही है वह मेरी जानकारी में नहीं है। पंचायती राज अधिनियम की धज्जी उड़ाते हुए इस फर्जी ग्राम सभा की अध्यक्षता सरपंच के बजाय अनुविभागीय अधिकारी मझौली द्वारा करना कार्यवाही पंजी में लेख है। फर्जीवाड़े के विरोध में आन्दोलन किये जाने पर कलेक्टर सीधी द्वारा जांच करायी गयी अपर कलेक्टर सीधी नें अपने जांच प्रतिवेदन दिनांक 4/9/2012 में लेख किया है की ग्राम पंचायत की पंजी एवं अभिलेखों के अवलोकन से विदित है की आयोजित ग्राम सभा विधि अनुकूल नहीं तथा काल्पनिक है इसके लिए कार्यवाही में सम्मिलित दोषी है। इस लूट के खिलाफ हमारी लड़ाई भूख हड़ताल के रूप में क़ी जा रही है।

भूख हड़ताल स्थल पर निम्न किसान मौजूद रहे-शिवकुमार सिंह, विजय बहादुर सिंह, लीलावती पनिका, श्यामवती सिंह, राजेश कुशवाहा, रामशरण कुशवाहा, शीतल कुशवाहा, ईश्वरदीन सिंह गोड़, नन्दलाल सिंह, चन्द्रशेखर सिंह, पुष्पराज सिंह, महावीर सिंह, सुखदेव, राजगुरु, भगवान सिंह, छोटेलाल सिंह आदि।
*उमेश तिवारी सीधी (म.प्र.)*

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *